जगत तारन गोल्डेन जुबिली स्कूल में समर कैम्प का मनमोहक समापन

जगत तारन गोल्डेन जुबिली स्कूल में दिनांक 21.05.2023  से चल रहे 10 दिवसीय समर कैंप ‘उमंग’ का 31.05.2023 को समापन हो गया। इस कैंप का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों की प्रतिभा को पहचानकर उन्हें निखारना व उन्हें प्रदर्शन योग्य बनाना था। कैंप में कक्षा 1 से 12 तक के लगभग 350 विद्यार्थियों ने कुछ नया सीखने की ललक लेकर पूर्ण समर्पण के साथ इसमें भाग लिया। इस कैंप में योगा, बास्केटबॉल, मार्शल आर्ट्स, आर्ट एण्ड क्राफ्ट, मेंहदी, सिलाई-कढ़ाई, फायरलेस कुकिंग, एनिमेशन, नाटक, नुक्कड़ नाटक, गायन,  ऑर्केस्ट्रा, भरतनाट्यम, डांडिया, गरबा आदि नृत्य शैलियों की शिक्षा दी गयी।

इस अवसर पर ‘रविंद्रालय प्रेक्षागृह’ में रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया गया जिसमें बच्चों ने कैंप में सीखी गई विभिन्न कलाओं का उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। कार्यक्रम के अतिथियों के तौर पर जगत तारन एजुकेशनल सोसाइटी के अध्यक्ष श्री प्रदीप मुखर्जी, श्री बादल चैटर्जी ( सेवानिवृत्त कमिश्नर, प्रयागराज ), व प्रयागराज के प्रसिद्ध साहित्यकार डॉ रविनंदन सिंह रहे।

 अपने उद्गार व्यक्त करते हुए श्री प्रदीप मुखर्जी ने विद्यार्थियों की रचनात्मक प्रतिभा व प्रस्तुतियों की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए उन्होंने शिक्षकों को बधाई दी व उनसे आग्रह किया कि बच्चों में सेवा भाव विकसित करने के लिए उन्हें सामाजिक संस्थानों, एन.जी.ओ. में ले जाएं जिससे कि वह उज्जवल देश के निर्माण में अपना सहयोग दे सकें।

 इस क्रम में श्री बादल चैटर्जी ने बच्चों की सुंदर प्रस्तुतियों की सराहना करते हुए विद्यार्थियों को कक्षा 1 से 8 तक नियमित रूप से खेलकूद तथा सांस्कृतिक गतिविधियों की शिक्षा देने का सुझाव दिया जिससे कि वह शारीरिक रूप से स्वस्थ रहें तथा उनका मन व मस्तिष्क भी सक्रिय रहे। उन्होंने फेसबुक, व्हाट्सएप आदि सोशल नेटवर्किंग साईट्स  के नियंत्रित उपयोग की सलाह दी जिससे कि बच्चों का मन एकाग्रचित्त रह सके। 

बच्चों की मनमोहक प्रस्तुतियों और प्रतिभा से अभिभूत डॉ. रविनंदन सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि बच्चों की बचपन में ही  प्रतिभा को पहचानकर अभिभावकों व शिक्षकों को एक दूसरे के सहयोग से उन्हें आकार देना चाहिए जिससे कि वह भविष्य में एक वटवृक्ष के रूप में आकार ले सकें। 

 प्रधानाचार्या श्रीमती सुष्मिता कानूनगो ने बच्चों को उनके शिक्षकों को उनकी सुंदर प्रस्तुतियों की बधाई देते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस कैंप के माध्यम से बच्चों ने 10 दिनों में जो सीखा उसका आगे भी वह बेहतरीन प्रदर्शन करते रहेंगे। उन्होंने बताया कि समर कैंप में बच्चों को उनकी रुचि व प्रतिभा के अनुसार खेल और अन्य कलाओं में प्रशिक्षण दिया गया जिससे बच्चों को अपनी प्रतिभा को शिक्षकों के कुशल मार्गदर्शन में निखारकर उन्हें उचित मंच मिल सके तथा पढ़ाई के साथ-साथ अपनी रुचि के अनुसार अपना बेहतर प्रदर्शन कर सकें। विद्यालय के साथ सहयोग करने के लिए उन्होंने अभिभावकों को भी अपना धन्यवाद ज्ञापित किया।

इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षकगण व विद्यार्थीगण आदि उपस्थित रहे तथा बच्चों की विभिन्न प्रस्तुतियों का आनंद उठाया। 

                          

Leave a Reply